माँ

तुझे ढूँढू कहाँ मैं माँ  
जहाँ वो कौन सा है माँ 
कहाँ से गोद वो लाऊँ 
जिसमे सर मैं छुपाऊं 
कहाँ वो हाथ मैं ढूँढू 
जो मेरे सर को सहलाएं 
कहाँ आवाज़ वो  सुन लूँ 
जो सिर्फ ममता बरसाए 
तेरी मौजूदगी ही जब 
सहारा मेरा होता हो 
तुझे खो कर मेरा ये दिल 
जब रोज़ रोता हो 
तुझे खोकर अकेलापन 
मुझे अब रोज़ खाता है 
तुझे श्राद्ध में अश्रु सुमन 
कैसे चढ़ाऊँ माँ !
love you maa !!

		

9 thoughts on “माँ

Leave a Reply