नाराज़

तेरी हर ख्वाहिश हर आवाज़ को नज़र अंदाज़ किया 
ए दिल माफ कर दे मुझे !  तुझे बहुत नाराज़ किया

3 thoughts on “नाराज़

Leave a Reply