मंज़िल

      वक़्त के दरिया में डूबते उतराते 
      कर ही ली पार ज़िन्दगी हमने 
      साथ तेरा हमेशा  रहा रब मेरे !
बेसबब ज़िन्दगी में भी ढूँढ ली मंज़िल हमने  .....

2 thoughts on “मंज़िल

Leave a Reply