पारितोष

नहीं दीखता खुद का दोष 
गर रहता है तू मदहोश 
यदि अहंकार ही तेरा गहना !
तो हार है तेरा पारितोष !

		

4 thoughts on “पारितोष

Leave a Reply