यादों की गुफा

यादों की गुफा में ले गयी उसकी बातें   
डूबने उतरने लगे हम दर्द के समंदर में 
चलने लगे सेहरा की तपती रेत पर 
     ख्वामख़्वाह यूँ ही !   
छाले पैर की जगह पड़ने लगे दिल में ! 

2 thoughts on “यादों की गुफा

Leave a Reply