यादों की गुफा

यादों की गुफा में ले गयी उसकी बातें   
डूबने उतरने लगे हम दर्द के समंदर में 
चलने लगे सेहरा की तपती रेत पर 
     ख्वामख़्वाह यूँ ही !   
छाले पैर की जगह पड़ने लगे दिल में ! 

3 thoughts on “यादों की गुफा

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s