दस्तक

दिल के दरवाजे पे, दस्तक ना दे, तू इतने प्यार से!  
दर्द अब तेरे लिए सारे रास्ते बंद कर दिए हमने   
ख़ुशी अब सिर्फ तेरे लिए जगह है दिल में  
रंजोगम से तोड़ लिए अब सारे रिश्ते हमने  

4 thoughts on “दस्तक

Leave a Reply