मज़बूत

हमने कब चाहा कब कहा तुमसे की हमे मज़बूत बनना है 
आप दिन ब दिन सालों साल हमे गम देते चले गए 
हाँ आपके करम से मज़बूत तो हुए हम,झेल गए गम !  
पर दिन ब दिन सालों साल तुमसे दूर भी होते चले गए 

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s