ज़द

कभी हौंसले भी दम तोड़ देते हैं 
जब अपने भी शामिल हों टांग खींचने में 
किसी के अरमानो तले आग लगाने वालों 
वो फट पड़ा तो बहुत कुछ आएगा ज़द में 

2 thoughts on “ज़द

Leave a Reply to seemakaushikmukt Cancel reply