सरताज

सब इश्क़ से बेज़ार हैं 
फिर भी तलबगार हैं  !
इश्क़ का 'इ 'नहीं समझे कभी 
फिर भी आशिकों के सरताज हैं  !

2 thoughts on “सरताज

Leave a Reply