ज़ज़्बात

शराब और शायरी का कोई रिश्ता नहीं 
शायरी का रिश्ता तो  है ज़ज़्बात से 
और ज़ज़्बात आते हैं तज़ुर्बे से 
नहीं आते यार शराब से 

7 thoughts on “ज़ज़्बात

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s