होश

हमने तो बस जाना ये के, होश छीने है हर कोई  
जब हो वक़्त कम मायने नहीं रखता है तब कोई 
अपने वज़ूद को  इज़्ज़त देना, है पहला फ़र्ज़ इंसा का  
सदा तुम होश में रहना,लबों की हॅंसी ना छीन ले कोई  

Leave a Reply