चाह

ये चाह अति निकृष्ट है,ना ज़हर से जीवन सींच 
चाह के चक्कर में जो पड़ा,उसे माया लेती खींच  

Leave a Reply