मस्ती

मन का सूरज चमकता रहे दमके चेहरे की लाली 
मुस्कान लबों पे हो हरदम छलके मस्ती की प्याली  
मोह नहीं हो प्यार हो सबसे न किसी का हो इंतज़ार  
बेकरार ना हो दिल यारा, हो मस्ती फकीरों वाली  

One thought on “मस्ती

Leave a Reply