1.दोहा

कब मेरे दिल की कही, समझ सकेंगे राम 
राम भजूँ दिन रात मैं , कभी बनेंगे काम  

Leave a Reply