2 दोहा

जीवन की इस नाव के ,तुम ही खेवनहार
डर लगता है प्रभु कहीं ,छूटे जो पतवार

4 thoughts on “2 दोहा

Leave a Reply