मरहम

सरे महफ़िल कुछ राज़ कह दें हम 
उसका नाम लेके बात कह दें हम 
पता है वो मेरे दर्द का मरहम तो नहीं 
फिर भी उसको इलाज़ कह दें हम 

4 thoughts on “मरहम

  1. उम्दा पंक्तियां
    कह दीजिये जो आज दिल मे है
    आपसे ही दिल इस महफ़िल में है

Leave a Reply