7 दोहा

तुम चाहे घर में रहो,ज्यों रहें मेहमान 
पर दिल में रहना सदा, बन कर मेरी जान 

Leave a Reply