8 दोहा

मुख पर मीठा बोलते, मन में रखते बैर 
इनसे रहना दूर तुम, गर चाहो जी खैर 

2 thoughts on “8 दोहा

Leave a Reply