शक्तिवान

शक्तिवान होगा वही, जैसे ऊँचा पेड़  
जिसकी गहरी हो जड़ें,कौन सकेगा छेड़
मिटटी से हो मेल, तो है मानवता गहना 
विनम्र रहे व्यवहार,सदा मस्ती में रहना 
सबसे पाए प्रेम जो ,बना रहे बलवान  
आता सब के काम वो,प्यार से शक्तिवान 

One thought on “शक्तिवान

Leave a Reply