9 दोहा

बाहर हों अति आँधियाँ, हो कितना तूफ़ान।
शान्ति रहे मन मे सदा, बनी रहे मुस्कान।।

Leave a Reply