11 दोहा

कोशिश मत छोड़ो कभी, रखो न मन संताप।
फिसले तो भी क्या हुआ, हार नहीं है पाप।

2 thoughts on “11 दोहा

Leave a Reply