13 दोहा

प्रभु सुमिरन करते रहो, रोज़ सवेरे शाम 
छीनी 'पर ' मुस्कान तो,नहीं बनेंगे काम

Leave a Reply