प्यार से दर्द

आसान नहीं जिसे प्यार करो उसे सज़ा देना  
खुद भी उतना ही दर्द होता है 
यकीन नहीं तो देखिये सज़ा देकर किसी भी माँ को 
उसका दिल ज़ार ज़ार रोता है  
या सच्चा आशिक बेवफा सनम को छोड़कर
दहाड़ें मारकर रोता है 
रिश्ता कोई भी हो जनाब प्यार गर है तो 
ज़रूर दर्द से जुड़ा होता है 

3 thoughts on “प्यार से दर्द

  1. कुछ पाकर तो हर कोई
    मुस्कुराता है…लेकिन…

    जिंदगी शायद उनकी होती है…
    जो बहुत कुछ खोकर भी…
    मुस्कुराना जानते है..

Leave a Reply