14. दोहा

तेरा-मेरा कुछ नहीं, सब मतलब का साथ।
 जहाँ प्यार बिन शर्त हो, छोड़ न उसका हाथ।

Leave a Reply