17.दोहा

नहीं अक़ल से लीजिए, यारों दिल के काम।
वर्ना ये कहते फिरो, दुनिया मिली न राम।।

Leave a Reply