21. दोहा

प्यार न पाए प्यार तो, दिल से निकले आह 
हो सबकी परवाह तो, पीड़ा मिले अथाह  

Leave a Reply