बगावत

जब से ये दिमाग दिल का काम करने लगा 
मासूम चेहरा आंसुओं से तर ब तर  रहने लगा 
लब बोलते हैं कुछ, और दिल में है कुछ और ही !
लाख समझाया मगर दिल बगावत पे उतरने लगा 

Leave a Reply