22.दोहा

मंदिर मस्जिद मैं गयी ,मिटी न मन की पीर  
पल पल माला मैं जपूँ ,मिले नहीं रघुबीर

5 thoughts on “22.दोहा

Leave a Reply