23.दोहा

तेरे बिन कुछ भी नहीं, हो  कितना भी  शोर 
जागे  तू मन आँगणा, तब ही होती भोर

8 thoughts on “23.दोहा

Leave a Reply