26.दोहा

मन चंचल है बावरा,यही न समझे बात 
हम कठपुतली हैं सभी, क्या अपनी  औक़ात 

Leave a Reply