28.दोहा

रोज़ नयी दुश्वारियाँ, रोज़ नयी है बात  
कैसे सुकून से रहे ,जब ले फेरे सात

Leave a Reply