29.दोहा

आँखें मेरी बोलतीं  ,लब मेरे ख़ामोश 
हे भगवन! कुछ तो कहो, क्या है मेरा दोष 

Leave a Reply