30.दोहा

लालच से बचके रहो, ये अवगुण की खान 
सब अंडे इक बार में, लें मुर्गी की जान

6 thoughts on “30.दोहा

Leave a Reply