31. दोहा

काम सभी के आइये, प्रकृति का यही मूल 
दूषित जल ही है रुका, कभी न जाना भूल

Leave a Reply