32.दोहा

लब बोलें कुछ और ही,और नयन कुछ और  
इनका अगर न साम्य हो, ह्रदय टिके किस ठौर

Leave a Reply