जुनूँ





जुनूँ ख्वाब पूरा करने का हो जिसका बेहिसाब
कैसे  उसका रह सके अधूरा कोई भी ख्वाब 
हौंसला मेहनत छूए आसमाँ, उसका इस कदर 
मदहोशी इतनी क्या दे पाएगी  कोई भी शराब 

Leave a Reply