33.दोहा

गोरी दिल बस में रखो, नयन चलाएँ तीर 
ये मन की अठखेलियाँ, करें घाव गंभीर

Leave a Reply