35. दोहा

अगर अधूरा काम हो, बिसराओ सब यार  
कब सूझे दिन रात है, छुट्टी या रविवार 

2 thoughts on “35. दोहा

Leave a Reply