36.दोहा

ख़्वाहिश पूरी हों नहीं, कितना करो प्रयास 
इक आशा पूरी हुई, दो की उठती आस  

Leave a Reply