37.दोहा

रखा वास्तु घर का सही, तन सजता शृंगार।
मन का भी धर ध्यान तू, कोना-कोना झार।।

Leave a Reply