38.दोहा





हद से दर्द बढे तभी, नैनन बरसे नीर 
जब अपना छूटे तभी, सही न  जाए पीर 

Leave a Reply