41.दोहा

नारी माने 'स्वर्ग' है, उसका निज घर-द्वार     
घर की ख़ुशियों के लिए, देती सब कुछ वार

Leave a Reply