43.दोहा

बोली'मधुर''मधुर' छुअन, मीठा हर अहसास  
नन्हें  हाथों से छुए, जब जब आये पास

5 thoughts on “43.दोहा

Leave a Reply