45.दोहा

दासी मत समझो उसे, न ही देवी स्वरूप   
केवल मानव मानना, अपने ही अनुरूप  

3 thoughts on “45.दोहा

Leave a Reply