46.दोहा

ख़्वाहिश है पिंजरा वही, जिस में ख़ुशियाँ कैद 
मन को मत परवाज़ दे , हर पल रह मुस्तैद

Leave a Reply