47.दोहा

तभी तपस्या माँ-पिता, की होती फलीभूत।
अगर नींव संस्कार की, डाली हो मजबूत।।

Leave a Reply