48.दोहा

प्यार तपस्या ही समझ, नहीं हसीन बहार।
कभी सिर्फ़ देना पड़े, मिले न वापस प्यार।।

Leave a Reply