49.दोहा

क्यों डूबें संसार में, नाव बिना पतवार 
मनसागर गोता लगा, हो भवसागर पार

Leave a Reply