51. दोहा

नरम ह्रदय को मत कभी, अल्प बुद्धि तू जान  
कपट पढ़े तेरा मगर, दिए क्षमा वो दान

Leave a Reply