52.दोहा

भाषा परिचय दे नहीं, परिचय दे बर्ताव।
विपदा में दिखता हमें, सबका अंतर्भाव।।
             ️✍️सीमा कौशिक 'मुक्त' ✍️

12 thoughts on “52.दोहा

Leave a Reply